Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • "Uttar Basti" - Panchakarma Process, by male and female genitals and urinary tract.

    उत्तर बस्ती – पुरुष और स्त्रियों के जननेद्रिय और मूत्र मार्ग से दी जाने वाली एक पंचकर्म प्रक्रिया|
    आयुर्वेदिक चिकित्सामें पंचकर्म अंतर्गत चिकित्सा प्रक्रियाओं में उत्तर बस्ती (Uttarbasti) जननेंद्रिय (reproductive system) [स्त्रियों में योनी और मूत्र  एवं पुरुष के मूत्र मार्ग] से की जाने वाली प्रक्रिया है|
    पंचकर्म की उत्तरबस्ती चिकित्सा बांझपन और गर्भाशय से संबंधित रोगों के लिए प्रमुख रूप से हजारों वर्षों से की जा रही है| यह एक भ्रान्ति है की उत्तर बस्ती केवल स्त्रियों में ही दी जाती है|

    Diabetic foot – Which can be disabled. (डायबिटिक फूट - एक अपंग बना सकने वाला रोग).

    "Diabetic foot" Yes the disease of diabetic patient, can cripple you, if you are not conscious.
    यदि आप मधुमेह के रोगी हैं, तो सावधान! कहीं आपको, अपना पैर कटवाना न पड जाये| 
    चोरी चोरी शरीर में प्रवेश करने वाला रोग मधुमेह या डायबिटीज, वर्तमान की बड़ी समस्या है, पर उससे भी बड़ी समस्या उसके डायबिटीज हो जाने के बाद हो सकती है| मधुमेह होने के बाद भी उसे अनदेखा करना, रोग के प्रति लापरवाही भरा रुख अपनाना, उस मधुमेह के रोगी को कितनी मुश्किलों में पहुंचा सकता है, यह भुक्त भोगी ही जानता है, और अधिकतर मामलों में यह स्तिथी में गंभीर परिणाम उठाना मज़बूरी होती है|
    मधुमेह से हो सकने वाले आँखों के अंधत्व (Diabetic retinopathy) के अतिरिक्त, मधुमेह के रोगी को स्वयं की अनदेखी से एक और गंभीर परिणाम जो हो सकता है, वह हें “डायबिटिक फुट”|
    अभी आपके पेर सामान्य है तो शुभकामनाएं, पर हमेशा सामान्य रहें, इसके लिए आपका इसके बारे में आज जानना जरुरी है| लेख में रोग विषयक जानकारी के साथ कुछ सामान्य सावधानिया बताई हैं, जिन्हें अमल कर आप इस रोग से हमेशा बचे रह सकते हें|
    यह “डायबिटिक फुट” है क्या?

    पंचकर्म के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न-उत्तर


    पंचकर्म के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न-उत्तर 
     About Panchakarma [पंचकर्म विषयक] ऐसे कई प्रश्न मन में उठते हें, उनके उत्तर के लिए क्लिक लंक-
    प्र.- पंचकर्म क्या है? -
    उ- सेंकडों वर्षो से प्रचलित आयुर्वेद चिकित्सा का महत्वपूर्ण अंग है पंचकर्म| हानि कारक जीवाणुओं/विषाणुओं को हटा कर शरीर को शुद्ध कर चिकित्सा के अदभुद परिणाम देने वाली, चिकित्सा पद्धति है| इसे “शोधन” भी कहते हें| कायाकल्प, या REJUVENATION कर सकने वाली आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धत्ति पंचकर्म आज विश्वभर में एक चमत्कारिक थेरेपी - - - - - - - see more पंचकर्म के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न-उत्तर 

    Itching- Still can moves when there is no disease.[खुजली- जब कोई रोग न हो तब भी चल सकती है!]

    खुजली – जब कोई रोग न हो तब भी चल सकती है!
     “दिल है की मानता नहीं, खुजलाने के सिवा कुछ जानता नहीं” एसा इंसान ही नहीं लगभग सभी प्राणियों को अक्सर खुजलाने की इच्छा होती है| बन्दर, कुत्तों पक्षियों आदि को तो खुजलाते देखा भी होगा|
    खुजली, कंडू, या प्रुराइटिस (pruritus) शरीर की त्वचा (Skin) पर होने वाली एक विशेष अनुभूति है, जिसे करने में सुख का अनुभव होता है, इसी लिए खुजली करने से-  . .  ‘दिल है की . . . मानता नहीं . . .’|

    Your nails can tell what the disease. आपका नाखून बता सकता है क्या रोग है|

    Your nails can tell what the disease. आपका नाखून बता सकता है क्या रोग है|
    जी हाँ यह सच है, हमारे हाथ और पैर के नाख़ून के रंग, रूप आदि में परिवर्तन से आपके शरीर में हो रहे या होने वाले रोगों का पता चल जाता है| एक चिकित्सक भी नाख़ून देख कर सही रोग निदान कर लेता है|
    लीवर, किडनी,मधुमेह, हृदय रोग,फेफड़ो के रोग, सोराइसिस, पीलिया, थाइरोइड, आदि आदि रोगों के शरीर में घुसने के या होने के संकेत भी इन नाख़ून को देख कर ही पता चल सकती है| एक प्रकार से नाख़ून शरीर के रोग जानने की प्रारम्भिक खिड़की भी है| अत: यदि हम स्वयं के या परिवार के किसी सदस्य के नाखुनो में सामान्य से अलग कोई परिवर्तन देखें, तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श करना ही चाहिए|

    Particular or Secondary skin Disease (lesions) (चर्म रोग-2 विशेष).

     विशेष चर्म रोग (Particular skin lesions) या Secondary skin lesions:-(Skin Lesions-2) 
    जब सामान्य से होने वाले चर्म रोगों की और [पूर्व लेख देखें लिंक- Skin lesions or damage an overview. {चर्म रोग एक अवलोकन}, ध्यान नहीं दिया जाता, ऐसे प्रारम्भिक त्वक विकार ही अघात (चोट)संक्रमण, अपथ्य  आहार सेवन (Unhealthy intake), मिथ्याविहार (अस्वस्थ जीवन शैली Unhealthy lifestyle), आदि कई कारणों से बढ़कर विशेष त्वक विकार उत्पन्न करते हेंइसके अंतर्गत स्केल्स Scale, क्रस्ट Crust, फटन Fissure, घाव Ulceration, त्वक विदारण Excoriation, और हस्ती चर्म Lichenification. आदि आते हें

    Depression: Let's Talk '- World Health Day, 7 April 2017, (The main goal of WHO).

    Depression: Let's Talk' - विश्व स्वास्थ्य दिवस 7 अप्रैल 2017 का प्रमुख लक्ष्य
    "विश्व स्वास्थ्य दिवस पर शुभ कामनाएं"
    विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यू एच ओ) सार्वजनिक स्वास्थ्य के प्रतिवर्ष एक विशेष उद्धेश्य को लेकर विश्व स्वास्थ्य दिन मनाता है|
    इस वर्ष २०१७ के लिए जागरूकता का विषय है-
    'Depression: Let's Talk'. 'अवसाद: के बारे में बात करें.

    Skin lesions (primary) or damage an overview. {त्वक विकार या त्वचा में होने वाले रोग या चर्म रोग}.









    चर्म रोग एक अवलोकन त्वक क्षति या विकार {त्वचा में होने वाले रोग या चर्म रोग}
    त्वचा में तीन स्तर पर रोग पाए जाते हें|
     A. सपाट (Flat) या समतल क्षति; B. उन्नत Elevated) क्षतियाँC. गहरी क्षति Depressed lesion .
         चर्म रोगों को प्राथमिक (Usual skin lesions -1 ) और विशेष क्षति (Particular skin lesions- 2 ) दो भागों में विभाजन से समझने में आसानी होगी
    प्राथमिक त्वक क्षति (Usual skin lesions -1 ) निम्न है;-

    SKIN – The Outermost protective body covering & Responder for external stimuli.

    Skin त्वचा शरीर की सुरक्षात्मक चादर, और सम्बेदना  का ज्ञान (अनुभव) कराने वाली एक ज्ञानेन्द्रिय . 

    प्रश्न -पेशाब नली में सिकुड़न (Urethral stricture)


    प्रश्न - पेशाब नली में सिकुड़न,  -लगभग 12 साल से मूत्र नली में सिकुड़न की शिकायतबूंद-बूंद पेशाब जलन के साथ साथ बहुत देर तक होता है।एक बार लेजर आपरेशन करवा चुका हूं, एक साल बाद फिर से वही शिकायत है। 

    Popular

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    Grounds of success, सफलता के सूत्र.

    Task is to do yourself.

    Great peoples who become history are not your destiny. Their ideas are helpful, not an object.Task is to do it yourself.

    इतिहास बने महापुरुष आपका भाग्य नहीं प्रेरक होते हैं| उनके आदर्श, सहायक होते हें, कर्म नहीं| अपना कर्म, स्वयं को ही करना होता है|

    मधु सूदन व्यास उज्जैन.

    Grounds of success, सफलता के सूत्र.

    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|