Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |

Morning Message [प्रभात संदेश]

रोग रोज नया रूप धारण करते हें हमारे द्वारा किये “प्रज्ञापराध” से? वर्तमान में हम एक कृत्रिम, मिलावट युक्त, जीवन ज़ी, और भोजन कर रहें हें, जहाँ न चाहते हुए भी हम नैतिकता और जीवन की आचार नीति से समझोता कर, जानबूझकर कई गलतियाँ, जिन्हें आयुर्वेद अनुसार “प्रज्ञापराध” (जानते हुए अपराध करना) कहा जाता है, कर रहे हें| इससे कई मेटाबोलोक समस्याएं (जैसे मोटापा, डायबिटीज, उच्च कोलेष्ट्रोल, उच्च रक्त चाप) जो चिकित्सा विज्ञान के लिए चुनोती दे, इंसानियत का शिकार कर रहीं हें| इसका एक सही जवाब है, आहार और जीवन में सुधार| इससे बचने का एक मात्र रास्ता है, आहार और जीवन शैली में परिवर्तन! क्योंकि ये रोग इतने जिद्दी है, कि ये उपचार या दवाओं से भी नियंत्रित नहीं हो पा रहें हैं, और रूप बदलबदल कर नए रोगों के रूप में प्रघट होते रहते हें|

HEALTH FOR ALL dr.vyas: हार्ट अटैक-क्यों? कब? केसे?ओर फिर क्या करें?

HEALTH FOR ALL dr.vyas: हार्ट अटैक-क्यों? कब? केसे?ओर फिर क्या करें?: हार्ट अटैक -यह एक एसा शब्द है, जिसे कोई सुनना नहीं चाहता, ओर न मानना चाहता है।  की उसे इस प्रकार की कोई समस्या हो सकती है, हार्ट अटैक -यह एक एसा शब्द है, जिसे कोई सुनना नहीं चाहता, ओर न मानना चाहता है। 
की उसे इस प्रकार की कोई समस्या हो सकती है, फिर भी यह होता है, ओर अक्सर जब पता चलता है तब तक देर हो चुकी होती है। इसके आगमन को पहचानना आवश्यक है, यदि पहचान लिया जाए तो हमारे नजदीक उपस्थित व्यक्ति के प्राण बचाए जा सकते हें। 
कैसे पहचानेगें की हार्ट अट्टेक हुआ है।    
  •  दर्द अगर पिन पॉइंट या उंगली से पता किया जा सके तो हार्ट अटैक का नहीं है। 
  •  दर्द अगर 30 सेकंड से कम रहे तो हार्ट अटैक का नहीं है। 
  • दर्द अगर 5 मिनट से कम रहे, तो भी हार्ट अटैक नहीं, पर एंजाइना हो सकता है, यह आगामी अट्टेक की भूमिका हो सकती है। 
  • इससे ज्यादा देर तक हो तो हार्ट अटैक हो सकता है। 
पर रुकिए!  अभी ओर भी बातें जानना जरूरी है, हार्ट अट्टेक बिना किसी दर्द के भी हो सकता है इसे साइलेंट हार्ट अट्टेक कहते हें। इसलिए हमको इसके बारे में ओर भी अधिक जान लेना चाहिए।  
पूरा लेख पढ़ें-- लिंक    क्यों होता है हार्ट अट्टेक?    

Third Eye treatment by Shirodhara - cure most of all neurological disease.तीसरे नेत्र जाग्रत करने वाली होती है शिरोधारा- अधिकांश न्यूरोलॉजिकल रोगों की चिकित्सा।

Third Eye treatment by Shirodhara - cure most of all neurological disease.
shirodhara relieves Anxiety, Stress, Depression, Fatigue, Fear, Insomnia and headaches like Migraine, Blood pressure & Jet Lag,. It regulates mood. Shirodhara therapy to heal many diseases.
तीसरे नेत्र जाग्रत करने वाली होती है शिरोधारा-  अधिकांश न्यूरोलॉजिकल रोगों की चिकित्सा।
शिरोधारा चिंता, तनाव, अवसाद, थकान, डर, अनिद्रा, और माइग्रेन जैसे सिर दर्द, और रक्तचाप से राहत मिलती है। जेट अंतराल (विमान यात्रा से हुई थकान)। यह मूड को ठीक करती है। शिरोधारा द्वारा चिकित्सा करने से अधिकांश रोग मिट जाते है|

आप इन्हें भी पड़ना चाहेंगे!!