Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • Grounds of success, सफलता के सूत्र.

    हर व्यक्ति की अपनी पसंद होती है| जैसा वह सोचता है, वैसा ही तलाशता है|
    स्वयं की सोच, वह जिस व्यक्ति में देखता है, वह उसी को पसंद करने लगता है| 
    और कभी जब जरा भी कमतर पाता है तो नजर से तुरंत गिरा भी देता है| 
    Every person has his own choice. As he thinks, he looks like that.
    The person's thinking in which he looks, seems to like him.
    And whenever he find less,
    immediately he hurts, & fallen them, their good graces.

    --------------------------------
    Task is to do yourself.
    Great peoples who become history are not your destiny. Their ideas are helpful, not an object.Task is to do it yourself.

    इतिहास बने महापुरुष आपका भाग्य नहीं प्रेरक होते हैं| उनके आदर्श, सहायक होते हें, कर्म नहीं| अपना कर्म, स्वयं को ही करना होता है|
    ---------------------------------------------------------
    Destiny does not come from anywhere.
    Any thoughts arise in the mind, if converted into words, then they should be added to the actions, these actions makes habits, then these habits becomes your character, this character became your destiny.
    Dr Madhu Sudan Vyas, ujjain
    भाग्य कहीं से भी नहीं आता है।
    जो विचार किसी के मन में उत्पन्न होते हैं, अगर शब्दों में परिवर्तित हो जाते हैं, तो उन्हें क्रियाओं में जोड़ दिया जाये, तो ये क्रियाएं आदतें बनती हैं, फिर ये आदतें ही आपका चरित्र बन जाती हैं, यह चरित्र आपका भाग्य बन जाता है|
    मधु सूदन व्यास उज्जैन.
    ==============================

    प्रारंभ में मैं नहीं जानता था कि मैं क्या कर सकता हूँ. 
    जैसे जैसे समय व्यतीत होता गया, नए नए विषयों पर कार्य करने का साहस किया. इस कोशिश से मुझे, मेरे डर पर काबू पाना सरल हो गया. धीरे धीरे मेंने अपने अन्दर को जानना शुरू किया, मेने पाया में व्यर्थ ही डर रहा था,
    आज जब में अपने कार्य के परिणाम को देखता हूँ, मुझे गर्व होता है की यह मेरा है|
    अपने आप को बार बार यह विश्वास दिलाते रहो, आशा मत छोड़ो|
    हमेशा विश्वास रखो, की जो कुछ कर रहे हो उसमें सफल जरुर होगे|
    In the beginning, I did not know what I can do. As time went by, dared to work on new subjects. This effort made me easy to control my fears. Gradually started to know inwardly inside. Now I have overcoming my fears.
    Today when I look at the results of my work, I am proud that "Its me".
    Keep reassuring yourself, do not give up hope, believe that whatever you are doing, will be successful .Dr. Madhusudan Vyas 
    ==============
    यदि कुछ क्षमता, पद, पाने की इच्छा है,
    तो जुट जाना चाहिए, विशेष क्षमता और दक्षता पाना निश्चय ही श्रम, समय, साध्य कार्य है|
    पाने में विलम्ब हो सकता है, पर यदि इस विलम्ब, या प्रारम्भिक पराजय से निराशा उत्पन्न हो जाये तो भविष्य में भी कुछ न करने का साहस समाप्त हने लगता है|
    हम जो कर रहे हें, वह किसी को पसंद आये या न आये,
    स्वयं को या किसी अन्य को उससे लाभ हो न हो,
    पर वह कार्य स्वयं को भविष्य में और बड़ा करने की शक्ति देगा|
    हमेशा कुछ नया सीखने मिलेगा|
    हमेशा कुछ नया अनुभव होगा|
    हर बार की हुई गलतियाँ सबक देंगी|
    अगली बार वह कार्य और अधिक अच्छा होगा|
    चुप न बेठो, करते रहो, करते रहो, करते रहो, और फिर आप एक दिन शीर्ष पर होगे|
    याद रखो कोई गुरु, शिक्षक, अनुभवी उतना ही सिखा सकता है, जितना उसको आता है, अधिक, पाने, सीखने, या जानने का प्रयत्न तो स्वयं ही करना, होगा|
    आदि काल से इसी प्रकार ज्ञान, विद्या, फलती-फूलती आई है|

    और अब कुछ नया करके आप भी इसमें सहायक बन रहे है|
    ===============
    संघर्ष Struggle
    मनुष्य का जीवन  संघर्षों से जुड़ा होता है, संघर्ष के बाद भी, परिणाम अनुकूल न होने पर, उसमें द्वेष , बदला, आक्रमकता और प्रतिशोध को जन्म होता है|
    जिन्होंने संघर्षों के बाद भी धेर्य बनाये रखा, और अपने अन्दर इन पाशविक गुणों को न आने दिया, वे ही राम, कृष्ण, गोतम, महावीर, गाँधी, आदि बन कर इतिहास में अमर हो गए|
    संघर्षों का साहस पूर्वक सामना करें, दुखों का अंत सुख ही होता है|
    The life of a man is linked to the struggle, even after the conflict, when the result is not favorable, hatred, revenge, aggression and retribution are born in it.
    Those who remained courageous even after the conflicts and did not allow these animalistic qualities to come within themselves, they became immortal in history by becoming Ram, Krishna, Gotam, Mahavir, Gandhi etc.
    Confront the conflicts courageously, the end of the sorrows is happiness.
    (Dr Madhu Sudan vyas)
    =================================x====================================
    प्रभाव Effectiveness 
    स्वयं के विचार से आप क्या हैं और क्या महसूस करते हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता| क्योंकि लोग आपके मन की बात नहीं जानते|
    फर्क इस बात से पड़ता है की आप क्या कर रहे हैं, क्योंकि आपके कार्यों का अन्य पर प्रभाव होता है|
    हम वही सब करें जो हम अपनी आगामी पीढ़ी से अपेक्षा रखते हें|
    It does not make any difference with what you think and feel about yourself. Because people do not know about your mind.
    The difference comes from, what you are doing, because your actions have an impact on others.
    We all do what we expect from our next generation.

    ( Dr Madhu sudan Vyas )
    ================================================================
    यदि कोई कहता है, की वह कभी भी कोई गलती नहीं करता है, इसका मतलब है उसने कभी कुछ करने की हिम्मत ही नहीं की है| 
    If someone says that he never makes any mistake, it means he never dares to do anything.

    आप कोई कंप्यूटर नहीं जो हमेशा सब ठीक ही करेंगे, कोई भी परिपूर्ण नहीं हो सकता, परिपूर्णता उद्धेश्यों को का अंत है|
    You are not a computer which will always do everything right, no one can be perfect, fullness is the end of devotion.
    ================================

    अपनी समस्याओं को सुलझाएं, इससे पहले कि वे आपकी खुशियों को मिटा दें|
    Solve your problems, before they erase your happiness.
    ==============================
    यदि हमको अच्छा और असली मिल सकता है तो हम नकली झुंट को अपनाकर अपना प्रयत्न कमजोर क्यों करें?
    If we can get good and real, then why should we weaken our efforts by adopting fake bait?
    ==========================

    उच्च विचारक नई योजनाएं बनाते हैं, ओसत विद्वान घटनाओं के बारे में सोचते हें, और क्षुद्र चिन्तक व्यक्ति (अन्य लोंगों) के बारे में चर्चा करते हें!

    High thinkers make new plans; Average scholars think about incidents, and Less thinkers (critics)  talk about the mean (about other people)
    ===============================
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|