Rescue from incurable disease

Rescue from incurable disease
लाइलाज बीमारी से मुक्ति उपाय है - आयुर्वेद और पंचकर्म चिकित्सा |
  • Home
  • Contact Us
  • About Me
  • Q & A
  • Article's स्वास्थ्य लेख
  • Panchakarma(पंचकर्म)
  • Common Article
  • Specific article (विशेष लेख)
  • VIDEO
  • Heel Pain (Plantar Fasciitis) कष्टकारी एडी का दर्द -बड़ी आसान है चिकित्सा?

    एड़ी में दर्द  (Heel Pain-(Plantar Fasciitis)   कष्टकारी एडी का दर्द -बड़ी आसान है चिकित्सा?  
    प्रश्न :- मेरी आयु 23 वर्ष है, मेरे दाहिने पैर के तलवे और एड़ी के ऊपरी हिस्से मे 2 वर्ष से बहूत दर्द रहता है॥ जिससे मुझे ठीक से नीन्द नही आती और इस दर्द के कारण दिनभर परेशानी होती है|

     प्रेषक:- khusi, anjiagrawal161@gmail.com,
     उत्तर – यह सही है की एड़ी में दर्द (pain) होने पर अक्सर बहुत कष्ट होता है| महिलाओं में यह तकलीफ आम रूप से मिलती है| इसके लिए सामान्यत किसी विशेष जाँच की जरुरत भी नहीं, परन्तु दर्द का कारण सूजन swelling के अतिरिक्त कुछ और है तो जाँच जरुरी है| 
    एड़ी में दर्द (pain) साथ पैरों में झुनझुनी और बुखार हो, और पैर भी गर्म हों तो यह हड्डियों में संक्रमण का भी लक्षण हो सकता है।यदि एड़ी में अकड़न और सूजन का आभास हो, यह अर्थराइटिस (Arthritis) के लक्षण हो सकते है।
    यह सब किसी चिकित्सक से सम्पर्क कर रक्त जांच (Blood Test), एक्‍स-रे (x-ray) आदि से ज्ञात हो सकता है|
    सामान्यत एड़ी दर्द प्रमुख कारण निम्न हैं|

    टाइट या कसे कपड़े पहनना|
    गिर जाने पर चोट लगने, या एड़ी में फ्रेक्चर, लिगामेंट इंजरी (Ligament injury), 
    अचानक पैर मुड जाने से मोच आना|
    किसी दवाई या विशेषकर नींद की गोली का परिणाम|
    उंचे (हाई हील) जूते व सेण्डल पहनना।
    कांटा, कंकर, पत्थर का चुभ जाना|
    मांस क्षय (मांस का कम होना)।
    कार्टिलेज या हड्डी का बढ़ना।
    अधिक समय तक खड़े रहना|
    शरीर में पोषक तत्वों का आभाव|
    मधुमेह व मोटापा, स्पोंडिलाइटिस (Spondylitis), आर्थराइटिस (arthritis), ओस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) और पोलियो (Polio) आदि कारण भी हो सकते हें| 

    अधिकांश रूप से पैरों और एडिय़ों की ज्यादातर समस्याएं चोट के कारण होती हैं। इन परेशानियों से जुड़े कुल मामलों में लगभग 50 प्रतिशत हड्डी टूटना या मच आना (लिगामेंट इंजरी) के होते हैं।
    हालंकि एड़ी दर्द (pain) के अन्य कारण प्रति दिन पैरो को स्ट्रेच नहीं करना भी है|  अगर आप बहुत अधिक व्यायाम करते है, या कुछ भारी मेहनत वाला काम करते है, अधिक चलना पड़ता है, तो आपके पैरो को ठीक रखने, पैर के स्नायुओ का व्यायाम (feet stretch exercise[1]  फुट नोट देखें) जरुर करना चाहिए|  इससे सामान्य एडी और तलवे के दर्द से छुटकारा मिल जायेगा|
    स्नायु और हड्डियों की शक्ति के लिए कैल्शियम वाले पदार्थ दूध, हरी-पत्तेदार सब्जियां और ताजे फल लेना चाहिए आयु की अधिकता वाले विशेष रूप से अधिक लें| प्रतिदिन धुप का सेवन भी हड्डी को मजबूत बनाता है|
    आरामदायक जूते व चप्पल, या स्पोर्टस जूते पहने|
    दशांगलेप का प्रयोग यदि दर्द (pain) की वजह से चलना फिरना बंद हो गया हो तो इस लेप का प्रयोग लाभ देगा| (दशांग लेप विवरण देखे-  क्लिक लिंक),
    अग्निकर्म है प्रभावी चिकित्सा - आयुर्वेदिक पंचकर्म के अंतर्गत अग्निकर्म चिकित्सा (सुश्रुत) इसके लिए (यदि अन्य रोग न हो) प्रभावी चिकित्सा है हमारे पंचकर्म केंद्र पर यह उपलब्ध है|  अधिकांश मामलों में केवल एक बार की प्रक्रिया जो १० मिनिट में हो जाती है से एडी का दर्द ठीक हो जाता है| 
    फुट नोट :- 


    [1] दीवार के सामने खड़े हो जाएं। अपने हाथों को दीवार पर रखें और अपनी एडियों को फर्श पर सपाट रखें। धीरे-धीरे आगे की ओर स्ट्रैच करें, एडी जमीं पर टिकी रहे, और फिर पहले वाली स्थिति में आ जाएं। एसा कई बार दोहराएँ|
    या बैठ कर एक एक बेल्ट मफलर आदि को परों में चित्र की तरह रखें फिर आगे पीछे खीच कर छोड़ते हुए स्ट्रेच करे|    
    =====================================================
    समस्त चिकित्सकीय सलाह रोग निदान एवं चिकित्सा की जानकारी ज्ञान(शिक्षण) उद्देश्य से हे| प्राधिकृत चिकित्सक से संपर्क के बाद ही प्रयोग में लें| इसका प्रकाशन जन हित में किया जा रहा है।
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
    Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

    स्वास्थ /रोग विषयक प्रश्न यहाँ दर्ज कर सकते हें|

    स्वास्थ है हमारा अधिकार

    हमारा लक्ष्य सामान्य जन से लेकर प्रत्येक विशिष्ट जन को समग्र स्वस्थ्य का लाभ पहुँचाना है| पंचकर्म सहित आयुर्वेद चिकित्सा, स्वास्थय हेतु लाभकारी लेख, इच्छित को स्वास्थ्य प्रशिक्षण, और स्वास्थ्य विषयक जन जागरण करना है| आयुर्वेदिक चिकित्सा – यह आयुर्वेद विज्ञानं के रूप में विश्व की पुरातन चिकित्सा पद्ध्ति है, जो ‘समग्र शरीर’ (अर्थात शरीर, मन और आत्मा) को स्वस्थ्य करती है|

    चिकित्सक सहयोगी बने:
    - हमारे यहाँ देश भर से रोगी चिकित्सा परामर्श हेतु आते हैं,या परामर्श करते हें, सभी का उज्जैन आना अक्सर धन, समय आदि कारणों से संभव नहीं हो पाता, एसी स्थिति में आप हमारे सहयोगी बन सकते हें| यदि आप पंजीकृत आयुर्वेद स्नातक (न्यूनतम) हें! आप पंचकर्म केंद्र अथवा पंचकर्म और आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रक्रियाओं जैसे अर्श- क्षार सूत्र, रक्त मोक्षण, अग्निकर्म, वमन, विरेचन, बस्ती, या शिरोधारा जैसे विशिष्ट स्नेहनादी माध्यम से चिकित्सा कार्य करते हें, तो आप संपर्क कर सकते हें| 9425379102/ mail- healthforalldrvyas@gmail.com केवल परामर्श चिकित्सा कार्य करने वाले चिकित्सक सम्पर्क न करें|